जापानी प्रधानमंत्री को विकास की झूठी तस्वीर दिखाने के लिए PM मोदी ने डाला अहमदाबाद की झुग्गियों पर पर्दा

देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने नारा दिया था कि गरीबी हटाओं लेकिन अब राजनेता गरीबी नहीं गरीबों को ही हटा देना चाहते हैं| देश की जनता से प्यार करने और देश के लिए सब कुछ त्याग देने की बात करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए आज देश की गरीब जनता ही शर्म का कारण बन गई है|

जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो आबे भारत आए हुए हैं और वो गुजरात का दौरा भी कर रहे हैं| फेसबुक पेज Unofficial: Subramanian Swamy की खबर के मुताबिक दौरे के लिए अहमदाबाद में झुग्गी-झोपड़ी वाले इलाकों को कपड़े से ढककर छुपा दिया गया है|

ये पहली बार नहीं हो रहा है सितम्बर 2014 में जब चीन के राष्ट्रपति ज़ि. जिनपिंग अहमदाबाद गए थे तब भी इसी तरह से झुग्गी वाले इलाकों को परदे से छुपाया गया था|

सवाल ये है कि क्या पीएम मोदी एक एसा भारत चाहते है जिसमे गरीबों के लिए जगह नहीं है? क्या पीएम मोदी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत की एक झूठी तस्वीर पेश कर रहे हैं? तथाकथित ग्लोबल इमेज वाले पीएम मोदी स्वयम को दुनियाभर में विकासपुरुष की तरह दर्शाते हैं और अपनी छवि बनाएं रखने के लिए वो गरीबी को नहीं गरीबों को ही हटा रहे हैं|


जिस राज्य की जनता ने 15 साल तक भाजपा को बहुमत की सरकार दी उस जनता से एसा शर्मनाक व्यय्व्हार राजनीति की हकीकत को बयान करता है| ये बताता है कि अगर आप अंधभक्त बनकर सिर्फ धर्म और जाती जैसे तुच्चे कारणों से वोट देते रहेंगे तो राजनीतिक पार्टिया सरकार में आकर अपना धर्म, जो है देश और जनता का विकास करना वो नहीं निभाएंगी|

पिछले 15 साल में भाजपा राज्य के हालातों का सुधार नहीं कर सकी और अब तथाकथित गुजरात विकास मॉडल की झूठी तस्वीर दिखाने के लिए उसने झुग्गियों की सच्चाई पर पर्दा डाल दिया|

ये तस्वीर देश की उस जनता के लिए उदाहरण है जिसपर धर्म का नशा चड़ा हुआ है| उसको समझ लेना चाहिए कि अगर वो सिर्फ इसी आधार पर वोट करती रहेगी और सरकार के कार्यकाल की समीक्षा नहीं करेगी|

तो उसकी झुग्गियों और कमज़ोर पड़ चुके घरों पर भी परदे डाल दिए जाएंगें या मुमकिन है कि गरीब जनता की बसावट ही कही और करा दी जाए| क्योंकि किसी देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को हमारे देश का दौरा करना होगा और आप देश के विकास की बनाई झूठी तस्वीर में फिट नहीं बैठ रहे होंगे|

बतादे कि 2012 में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने दावा किया था की उन्होंने राज्य में गरीबी रेखा के नीचे आने वाले सभी लोगों को घर देने का रिकॉर्ड बनाया है| आज पांच साल बाद भी मोदी दावे की कसौटी पर खरे नहीं उतर रहे हैं|

loading...