मोदी जी को क्या हो गया है…अब गाय भेंसो का आधार कार्ड बना रहे है

आपको ये खबर पढ़कर हँसी भी आएगी और आप सोच में भी पड़ जाओगे क्या ऐसा भी हो सकता हैं। यकिन मानना थोडा मुस्किल होगा पर ये सच हैं। अब हमारे देश में दूध देने वाली गाय और भैंसों का भी आधार कार्ड बनेगा। फर्क ये होगा इंसानों के आधार कार्ड में फोटो लगे जाती है। और एक कार्ड होता हैं। इसकी जगह गाय और भैंसों के कानो में एक खास नंबर लगा दिया जायेगा। जो की 12 संख्या का एक यूनिक आइडेंटिफिकेशन नंबर होगा। इस एक साल में 88 मिलियन गाय-भैंसों का आधार बनाने का लक्ष्य रखा गया है।

गाय-भैंसों का आधार बनाने का काम पर इस साल के पहले दिन से ही कर्मचारी लग गए है। इसके पीछे प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी का उद्देश्य ये है की गाय-भैंसों की 2022 तक किनती की जा सके ताकि उनको बहतर सुविधा और टीकाकारण किया जा सके। दूध उत्पादन को बढाया जा सके। इससे दूधवालों और डेरी वालों को फ़ायदा पहुंचेगा।

गाय-भैंसों के कानो में एक पोलीयूरेथेन का टैग लगाया जायेगा। जो की न तो ख़राब होगा न ही निकलेगा सालों तक चलेगा। टैग पर लगे कोड को ऑनलाइन डेटाबेस में जोड़ दिया जायेगा। और गाय-भैंसों के मालिक को एक एनिमल हेल्थ कार्ड’ भी दिया जाएगा।

सोहन लाल दूध देरी की भेंसे प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी का ये फैसला सुन कर बहुत खुश है। उन्होंने तो अपने लिए सोने छल्ला भी बुक करा लिया है। इसी छल्ले में वो डायमंड जड़े अपने ख़ास नंबर को पहनेंगी।

loading...